अश्क शायरी | दिल छू लेने वाली 30+ अश्क शायरियां | Heart touching ashq shayari


by

Posted

in


Ashq shayari नमस्कार दोस्तों, जब हम किसी से प्यार करते है तो उसकी कमी में अश्क झलक आते हैं और कभी किसी से मिलने की खुशी में अश्क़ हमारे सुख दुख में हमारे हमसफ़र हमारे साथी बनकर आँखों से छलक जाते है.

 अश्क़ शायरी अश्क हिंदी शायरी आंसुओं की शायरी आंसू देने वाली शायरी आंसुओं की शायरी aansu par shayari aansu par shayari in hindi ashq shayari in hindi

जब कोई बहुत ज्यादा किसी चीज की खुशी होती है या फिर कोई गम होता है तब हमारी आंखों में जो पानी आ जाता है अश्क उसी को कहते है।उनको व्यक्त करने के लिए आज हम आपके लिए लेकर आये है कुछ चुनिन्दा अश्क शायरी.

खाश शायराना अंदाज सिर्फ हमारे पास

बेवफ़ाई का मुझे जब भी ख़याल आता है,
अश्क़ रुख़सार पर आँखों से निकल जाते हैं.

समंदर में उतरता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं,
तेरी आँखों को पढ़ता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं,
तुम्हारा नाम लिखने की इजाज़त छिन गई जबसे,
कोई भी लफ्ज़ लिखता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं.

मंज़र अभी आंसुओं का चल रहा है,
लफ्ज़ खामोश ही रहे तो अच्छा होगा.

ashq shayari

मुझको लूट कर जाने वाले चले गये
मेरी आँखों से नींद चुरा कर ले गये,
मोहब्बत की दिल से तो आँसू गिरे
लोग उन्हें मोती समझकर उठा ले गये.

सोचकर बाज़ार गये था कुछ अश्क़ बेचने,
हर खरीददार बोला तोहफे बिका नहीं करते.

आँखों में कौन आ के इलाही निकल गया,
किस की तलाश में मेरे अश्क़ रवां चले.

कभी बरसात का मज़ा चाहो
तो इन आँखों में आ बैठो,
वो बरसों में कभी बरसती है
ये बरसों से बरसती हैं.

इश्क में राएगाँ कुछ नही जाता,
ये अश्क भी किसी काम आएंगे.

रेत भरी है आँखों में आँसू से तुम धो लेना,
कोई सूखा पेड़ मिले तो उससे लिपटकर रो लेना.

कोई रेत की प्यास बुझाओ जन्म-जन्म की प्यासी है,
साहिल के ढलने के पहले अपने पाँव भिगो लेना.

मैंने दरिया से सीखी है पानी की पर्दादारी,
ऊपर-ऊपर हँसते रहना गहराई में रो लेना.

ashq shayari

आँखों में आँसू लेके होठों से मुस्कुराये,
हम जैसे जी रहे हैं कोई जी के तो बताये.

दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया
जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया,
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया.

आँख ने अश्क बहाए भी तो सूख जाएंगे,
दिल की बस्ती में ग़म की धूप है बहुत.

इश्क़ लिखने को इश्क़ होना बहुत जरूरी है,
जहर का स्वाद बिना पिए कोई कैसे बताएगा.

दिल के हर कोने में बसाया है आपको
अपनी यादों में हर पल सजाया है आपको,
यकीं न हो तो मेरी आँखों में देख लीजिये
अपने अश्कों में भी छुपाया है आपको.

आ देख मेरी आँखों के ये भीगे हुए मौसम,
ये किसने कह दिया कि तुम्हें भूल गये हम.

मेरे ख़त में जो भीगी भीगी सी लिखावट है,
स्याही में थोड़ी सी मेरे अश्कों की मिलावट है.

शायद ये वक़्त हमसे कोई चाल चल गया
रिश्ता वफ़ा का और ही रंगों में ढल गया,
अश्क़ों की चाँदनी से थी बेहतर वो धूप ही
चलो उसी मोड़ से शुरू करें फिर से जिंदगी.

वो अश्क बन के मेरी चश्म-ए-तर में रहता है,
अजीब शख़्स है पानी के घर में रहता है.

आया ही था खयाल कि आंखें छलक पड़ीं,
आंसू किसी की याद के कितने करीब हैं.

समंदर में उतरता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं
तेरी आँखों को पढ़ता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं,
तुम्हारा नाम लिखने की इजाज़त छिन गई जबसे
कोई भी लफ्ज़ लिखता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं.

ग़मो से उलझकर मुस्कुराना मेरी आदत है,
मुझे नाकामियों पे अश्क़ बहाना नहीं आता.

सोचकर बाज़ार गये था..कुछ अश्क़ बेचने,
हर खरीददार बोला..तोहफे बिका नहीं करते.

हर ‪‎दिल‬ में दर्द छुपा होता है
बयाँ करने का अंदाज़ जुदा होता है,
कोई अश्कों से बहा देता है और
किसी की हंसी में भी ‪‎दर्द‬ छुपा होता है.

मेरे अश्क और तेरी यादों का कोई तो रिश्ता जरूर है,
कमबख्त जब भी आते है दोनों साथ ही आते है.

आँखों से बगावत पे उतर आता है,
इक अश्क अक्सर बागी हो जाता है.

कागज़ पे हमने भी ज़िन्दगी लिख दी
अश्क से सींच कर उनकी खुशी लिख दी,
दर्द जब हमने उबारा लफ्जों पे
लोगों ने कहा वाह क्या गजल लिख दी.

हमारे शहर आ जाओ सदा बरसात रहती है,
कभी बादल बरसते हैं कभी आँखें बरसतीं हैं.

टपक पड़ते हैं आँसू जब तुम्हारी याद आती है,
ये वो बरसात है जिसका कोई मौसम नहीं होता.

दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया,
जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया,
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे,
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया.

इश्क़ लिखने को इश्क़ होना बहुत जरूरी है,
जहर का स्वाद बिना पिए कोई कैसे बताएगा.

ashq shayari

टुकड़ा टुकड़ा नाम ऐ मोहब्बत
कतरा कतरा दर्द ऐ दिल
जर्रा जर्रा धड़कन ऐ वफ़ा,
बूँद बूँद अश्क़ ऐ निगाह
यही इश्क़ है, इश्क़ हैं, इश्क हैं.

अश्कों के निशाँ पर्चा-ए-सादा पे हैं क़ासिद,
अब कुछ न बयाँ कर ये इबारत ही बहुत है.

गिरा पलकों से अश्क़ तो सोचा ना था,
रुख़सार पर हाथ तेरे संभाल लेंगे उन्हें.

आशा करते है की आपको हमारी द्वारा पेश की गई अश्क शायरी बेहद पसंद आई होंगी। यदि आपका कोई कॉमेंट है तो हमारे कॉमेंट सेक्शन में जरूर बताएं और आप ये शायरियां अपने दोस्तो साथियों में जरूर शेयर करे.

और उन्हें भी कुछ चुनिंदा अश्क शायरियों का आनंद उठाने का अवसर दे.